बालों के समस्याओं का कारण लक्षण और आयुर्वेदिक इलाज।

Share with Friends
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

आज की बदलते जीवन शैली के कारण बहुत ही सारे रोग हमेसा लगे रहतें हैं। उनमें से एक बालों की समस्या होता हे। बाल की समस्या हर किसीके पास देखने को मिलता हे। बाल झड़ना, बालो का पतला होना, दो मुंह के बालो का हो जाना, सिर में खारिश होना, रूसी, काम उम्र मैं गंजापन, काम उम्र मैं बालों का सफ़ेद होना, बाल का लम्बा न होना ऐसे बहुत सरे समस्या होता हे।

इसका कारन बहुत ज्यादा केमिकल उक्त शैम्पू का इस्तमाल। इसके अलावा बहुत ज्यादा तनाब, पोल्लुशण के कारन वि बाल सफ़ेद और झड़ने लगते हैं।ऐसे मैं हम बालो को कला करने के लिए हम मेहँदी से लेकर हेयर कलर तक सब आजमाने लगते हैं।

इसे हमारे बाल कला न होक और ज्यादा सफ़ेद होजाते हैं। बॉल सफ़ेद होने के कारन जेनेटिक वि हो सकते हैं अगर आप की माता या पिता की काम उम्र मैं बाल सफ़ेद होने लगता तो आप की बाल काम उम्र मैं बाल सफ़ेद होने लगेगा।

सरीर मैं प्रोटीन, आयरन, विटामिन बी १२ के कमी होने से भी बाल सफ़ेद होने लगता हे। बालो मैं काईन तरह का क्रीम या हेयर कलर काने से वि बाल सफ़ेद होता हे।

कुछ महत्वपूर्ण बातें

डाईबेटिस थाइरोइड जैसे बीमरियन होने से वि बाल सफ़ेद होते हैं। और एक समस्या रुसी के कारन होता हे | बालो में रुसी के कारण बाल रूखे हो जाते है| और बेजान से लगने लगते है सर्दियों में तो बालो में बहुत ही ज्यादा रुसी हो जाती है और ये किसी को भी हो सकती है| जब रुसी के कारण बालो में रुखापन आ जाता है तो हमें बालो से सम्बंधित कई सारी बीमारियों का सामना करना पड़ता है|

बाल झड़ने के सबसे बड़ा कारन ये हे की कभी कभी ज्यादा कंघी करने से बालो की जड़ो को नुकसान होता है और फिर बालो की जेड कमजोर होने लगती हैं और बाल झड़ने लगते हैं।किसीवी बालों के समस्या का समाधान और पूरा इलाज और्वेदिक जड़ीबूटिओं मैं से हो सकती हे। जिसका कोई साइड इफ़ेक्ट वि नहीं होते हे।

बाल की हर समस्या का आयुर्वेदिक उपचार

भृंगराज तेल

भृंगराज तेल

भृंगराज तेल बालों के स्वास्थ्य को बढ़ावा देने के लिए सबसे भरोसेमंद और सबसे पुराने आयुर्वेदिक उपायों में से एक है। भृंगराज का तेल बालों को लंबा करने में मददगार है और बालों का गिरना बंद होता करता है.

कड़ी पत्ता

कड़ी पत्ता

कड़ी पत्ते और नारियल के तेल को तब तक उबालें जब तक ये काले न हो जाएं। इसे अपने सिर की त्वचा पर टॉनिक की तरह लगाएं। यह बाल गिरने की समस्या के लिए एक उपचार की तरह है। कड़ी पत्ते को दही या छाछ के साथ भी उपयोग में लाया जा सकता है।

आलू

आलू

आलू के छिलके को पानी मैं १० मिनट उबाल लें फिर उसे ठंडा करके कालूँ मैं लगाएं ऐसे सफ़ेद बलून को कला करसकते हैं।

कपूर और नारियल का तेल

कपूर और नारियल का तेल

दो चम्मच नारियल का तेल ले उसमे आधी चम्मच कपूर का चूर्ण मिला ले| और फिर दोनों को आपस में अच्छे से मिक्स कर ले और एक लेप तैयार कर ले| फिर इस लेप को अपने बालो और जड़ो में अच्छे से लगा ले और एक घंटे तक लगा रहने दे फिर बालो को अच्छे से धो ले|

आमला और नारियाल का तेल

आमला और नारियाल का तेल

आमला को नारियाल के तेल मैं मिलकर लगाने से बॉल सफ़ेद नहीं होता हे।

प्याज और निम्बू

प्याज और निम्बू

प्याज के राश मैं निम्बू मिलकर जड़ों मैं लगाने से बाल काला होते हैं। बालों से रूसी हटाने के लिए रात को एक प्याज के गोल चिप्स में काट लें और रात-भर पानी में भिगोएं| प्रात: प्याज निकालकर फेंक दें और पानी को सिर में 15 मिनट तक लगाएं|

नींबू और सरसों का तेल

नींबू और सरसों का तेल

एक कफ में दो चम्मच सरसों का तेल लीजिये. और फिर इसमे एक चम्मच नींबू का रस मिला लें. फिर इन्हें मिक्स कर ले. और एक मिश्रण तैयार कर ले और ध्यान रखें. ये मिश्रण केवल बालों को धोने से आधे घंटे पहले ही उपयोग करे| और फिर बालो को धो ले इससे आपको रुसी से निजात मिल जायेंगे. और बालों को लम्बा करने में भी सहायता होगी|

कच्चा दूध

कच्चा दूध

हप्ते मैं एक बार कच्चा दूध लगाने से बाल जल्दी सफ़ेद नहीं होता हे।

मेहंदी

मेहंदी

मेहंदी का उपयोग बहुत पुराने समय से किया जा रहा है| तथापि बालो में नियमित रूप से मेहंदी लगाने से भी रुसी कम होती है|उसके बाद बालो में नियमित रूप से मेहंदी लगाने से भी रुसी कम होती है। आमला और मेहँदी को मिलकर हम बालों मैं कंडीसनिंग कर सकते हैं।

चाय की पानी

चाय की पानी

हप्ते मैं दो बार चाय की पानी से धोने से बाल काला होता हे। 

मैथी पैक

मैथी पैक

1 मुठ्टी मैथी को और पानी में रात भर के लिए भिगो के रख दे फिर सुबह मैथी को अच्छे से पीस ले| और इस पेस्ट को बालो की जड़ो में अच्छे से लगा ले| और एक घंटे तक लगा रहने दे फिर बालो को अच्छे से धो ले इस उपाय को आप 2-3 बार करें|

अदरक और दूध

अदरक और दूध

अदरक के रास मैं कच्चा दूध मिलकर बलून मैं लगाने से बाल काला होता हे।

दही

दही

दही रूसी की समस्या को दूर करने के साथ साथ बालों को पोषित देने का भी काम करता है. एक कप दही में एक चम्मच बेकिंग सोडा मिला लें. इस पैक को स्कैल्प में लगाएं. कुछ ही दिनों में आपको फर्क नजर आने लगेगा.

अदरक और शहद

अदरक और शहद

अदरक के पाउडर को एक चम्मच शहद के साथ रोजाना सुबह या शाम को लेने से बालों को सफ़ेद होने से रोका जा सकता है।

गुड़हल

गुड़हल

गुड़हल को मेहँदी के साथ मिलकर लगाने से रूसी के समस्या से रहत मिलती हे। गुड़हल के पते को पीस कर उसे अंडे के साथ मिलकर बालों के जड़ मैं लगाएं तो काल काला और चमक दर बनते हैं। गुड़हल  फूल को आमले के  लगाने से बाल घने होते हैं। गुड़हल  फूल को नारियाल तेल के साथ गर्म कर ले उसे ठंडा होनेके बाद रात को सोने से पहले लगाकर सुबह बल धोने से बल मझबूत बनते हैं।

काली मिर्च

काली मिर्च

1 ग्राम काली मिर्च मैं आधा कप दही के मिलकर  सिर की त्वचा में मालिश करने से भी सफ़ेद बालों की समस्या से छुटकारा पाया जा सकता है। इस मिश्रण में नीबू का रस भी मिलाया जा सकता है।

एलोवेरा जेल

एलोवेरा जेल

एलोवेरा जेल सफेद बालों को रोकने में बेहद ही सहायक है। सप्ताह में 2 बार नहाने से पहले इसे बालों में लगाएं।

सरसों का तेल और हिना

सरसों का तेल और हिना

250 ग्राम सरसों का तेल लें और इसमें 60 ग्राम हिना मिलाकर तब तक उबालें जब तक कि ये  सरसों के तेल में पूरी तरह जल न जाए। तथापि काले और चमकदार बालों के लिए इस मिश्रण को नियमित रूप में अपने बालों में लगाएं।

लौंग का तेल

लौंग का तेल

लौंग का तेल के थोड़ा-थोड़ा हर दूसरे दिन अपने बालों में सोने से पहले लगाएं और सुबह नहाते वक्त बालों को धो लें। इसलिये सफ़ेद बालों की समस्या से निपटने के लिए लौंग का तेल अच्छा विकल्प है।

नीम का तेल

नीम का तेल

नीम का तेल भी बालों को सफ़ेद होने से रोकता है। इसलिये नीम में एंटीबैक्टीरियल गुण होते हैं जो बालों की एनी समस्याओं को भी दूर करते हैं। इसका लेप नहाने से पहले अपने बालों में लगाएं और कुछ देर के बाद इसे धो लें।

नारियाल का तेल

नारियाल का तेल

नारियाल की तेल को गर्म करके बालों मैं मलोस करने से बालो मैं चमक आती हे और बालों को पोषण वि मिलती हे।

नीम की पता और दही

नीम की पता और दही

नीम की पता को पेस्ट बनाकर दही के साथ मिलकर लगने से बलून का झड़ना काम होता हे।

साबधान कोई वि आयुर्वेदिक जड़ी बूटी को इस्तिमाल करनेसे पहले और्वेदिक डॉक्टर की  परामर्श करें।

क्या पीठ और कमर के दर्द का इलाज आयुर्वेदिक मैं सम्भब हे ? आइये जानते हैं इसका कारण लक्षण और इलाज।

12 thoughts on “बालों के समस्याओं का कारण लक्षण और आयुर्वेदिक इलाज।

Comments are closed.