होम्योपैथी, एलोपैथी, आयुर्वेदिक में से कौन बेहतर हैं?

Share with Friends
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

होम्योपैथी

होम्योपैथी, एलोपैथी, आयुर्वेदिक: आज हम आपको होम्योपैथी दवाइयों को बारेमे कुछ बताने जारहे हैं। होम्योपैथी को बच्चों से लेकर बड़ों तक सब जानते हे। बच्चे जब बीमार होते हे तब मेडिसिन खाने के लिए बहुत ज्यादा परेशान करते हे। अगर मेडिसिन होम्योपैथी हो, तो बात अलग होता हे। क्यूंकि ये आसानीसे खासकते हे। होम्योपैथी का इलाज भले ही थोड़ा लम्बा चलता है, लेकिन यह जड़ से समस्या को दूर करता है। साथ ही इसका कोई साइड इफेक्ट भी नहीं होता। इसलिए अधिकतर लोग होम्योपैथी इलाज को प्राथमिकता देते हैं। हालांकि इन दवाइयों को लेने व स्टोर करने का एक तरीका होता है। होम्योपैथी दवाइयों को तीन साल या उससे भी अधिक समय के लिए स्टोर किया जा सकता है। इसका नस्ट होनेका डर नहीं होता।  इनकी मेडिकल स्टेंथ खत्म नहीं होती हे। बस जरूरत होती है कि आप इन्हें सही तरह से लें और स्टोर करें।

फायदे

होम्योपैथी में हर तरह का इलाज सम्भब होता हे।
ये मेडिसिन खाना आसान होता है।
इसका कोई साइड इफ़ेक्ट नहीं होता हे।
इ थोड़ा धीरे काम करता हे पैर ये बीमारि को जड़ से ख़तम कार्ति हे।   
इस मेडिसिन को आप ज्यादा समां तक स्टोर कर सकते हे।
ये मेडिसिन बहुत कम पैसे में मिलता है।
होम्योपैथी एक सुरक्षित इलाज का तरीका है।
रोगियों को दवा की लत नहीं लगती।

एलोपैथी

आज की भाग दौड़ भरी जिन्दगीमे का बूत ज्यादा एलोपैथी की इलाज को पसंद करते हे। क्यों की जे जल्द असरदार होता है। इसे बिना किसी शक के अपनाते हैं। पर क्या हम जानते हे की ये मेडीकिन लेना हमारे लिए कितना सही हे।  एलोपैथी किसी भी संक्रमणों से निपटने में सबसे प्रभावी और असरदार है। इसमें कोई शक नहीं है। लेकिन आपको जानकर हैरानी होगी कि ज्यादातर बीमारियां खुद की उत्पन्न की हुई होती हैं। कुछ बिमारिओं को हम जल्दी ठीक करने की आड़ में काईन अन्य नयी बीमारी को लाते हे। 

फायदे

इसका इलाज में तुरंत आराम मिलता हे।
आसानी से इलाज की सुविधा होती हे।
सर्जिकल ऑपरेशन सुविधा होती हे।
ज्यादा बेहतर सुविधाएं। 
इंजेक्शन और एंटीबायोटिक्स का जरिया भी होती हे।

आयुर्वेदिक

आयुर्वेदिक इलाज जो दुनिया का सबसे पुराना चिकिर्षा पद्धति मानाजाता हे। आयुर्वेदिक इलाज में भले ही आपको अचानक से आराम नहीं मिलेगा लेकिन अगर आप आयुर्वेद इलाज कराते हैं, तो ऐसे में आपकी बीमारी जड़ से खत्म हो सकती है। इसमें आप को जड़ीबूटिओं से इलाज की जाती हे। जिसका कोई साइड इफ़ेक्ट नहीं होता हे। इसकेलिए आप को दवाओं का लंबा कोर्स लेना पड़ता हे। आयुर्वेदिक में हर तरह का इलाज सम्भब होता हे .

फायदे

साइड इफेक्ट नहीं होता हे।
सभी दवाएं नेचुरल पदार्थों और जड़ीबूटिओं से बनती हैं।
घरेलू नुस्खे भी इसमें शामिल होता हे।

क्या पाइल्स(बवासीर) का इलाज आयुर्वेद मैं सम्भब हे ?

24 thoughts on “होम्योपैथी, एलोपैथी, आयुर्वेदिक में से कौन बेहतर हैं?

Comments are closed.